X


संसद में

ज्‍योतिरादित्‍य इस बात में विश्‍वास करते हैं कि एक सांसद की भूमिका तीन चीजों के संयोजन पर निर्भर करती है – एक स्‍पष्‍ट सवाल करना, बोलने के लिए एक विष्‍य का चुनाव, और ऐसा विषय जिसके मुद्दे पर आगे चर्चा की जा सकती है। लोकसभा में रहते हुए, हमेशा उन्‍होंने सीखा है और निरंतर विकास पार ध्‍यान दिया।

विद्युत मंत्री के रूप में उन्होंने परामर्शदात्री समिति को विशेषाधिकार दिया था, ए‍क सांसद के रूप में वे रक्षा, विदेश और वित्त मंत्रालय के परामर्शदात्री समितियों का एक प्रमुख हिस्‍सा थे। एक सांसद के रूप में उन्‍होंने हमेशा राष्‍ट्रीय मुद्दों को उठाया और उसके निवारण के लिए अपने विचारों को भी स्‍पष्‍ट किया।

ज्‍योतिरादित्‍य के भाषणों और उनके द्वारा उठाये गये मुद्दों को यहां देखें